February 3, 2023
Online Taza Khabar
Other

प्राचीनकाल में जब गाँव-देहात हुआ करते थे, तब पूरा गाँव ही परिवार होता था। त्योहार, विशेषकर दिवाली और होली

प्राचीनकाल में जब गाँव-देहात हुआ करते थे, तब पूरा गाँव ही परिवार होता था। त्योहार, विशेषकर दिवाली और होली के दिन तो सारा घर ही व्यस्त होता था। घर की स्त्रियाँ तरह-तरह के व्यंजन और मिठाई बनाने में व्यस्त होती थीं और पुरुष मिठाइयों का पार्सल गाँव भर में बाँटने में व्यस्त होते थे।

उस जमाने में ट्रक और बस ड्राइवर इतने ईमानदार हुआ करते थे, कि किसी दूर गाँव या शहर के रिश्तेदार को मिठाई या चिट्ठी भिजवानी होती थी, तो ड्राइवर को पकड़ा देते थे और वह सकुशल उन तक पहुंचा देता था।
लेकिन अब हम आधुनिक हो गए हैं, अब लोग मिठाइयाँ बनाना तो दूर, भिजवाना भी अपनी शान के विरुद्ध समझते हैं। अब तो केवल मिठाइयों की तस्वीरें भेजी जाती हैं व्हाट्सएप और मेसेंजर के माध्यम से।
जल्दी ही वह दिन भी आएगा, जब किसी भूखे को रोटी भी स्केन करके व्हाट्सएप के द्वारा भेजी जाएगी और वह जवाब में लिखेगा, “Very Nice…Thank you so much !” और यही संदेश उसका अंतिम संदेश होगा, क्योंकि उसके बाद उसके ज़िंदा बचे रहने की कोई गारंटी नहीं।

Related posts

सोने से भी ज्यादा फायदेमंद है यह बीज पुरुषों की नपुंसकता और हड्डियों का दर्द थोड़ी ही दिनो में दूर कर देगा।

onlinetazakhabar

सूजी के स्वादिष्ट नाश्ते को नए तरीके से बनाने की रेसिपी

onlinetazakhabar

ब्रम्ह मुहूर्त में उठना होता हे खास। एडेनोसाइन का तेजी से संचय होता है।

onlinetazakhabar

रीवा में बस ट्रक की टक्कर में यूपी के 15 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक

onlinetazakhabar

फायरमैन 25,000 के पदों के लिए आज ही फॉर्म अप्लाई करें । अधिक जानकारी के लिए नीचे क्लिक करें

onlinetazakhabar

चेहरे के दाग धब्बे और झुर्रियों को दूर करने के लिए हल्दी का यह खास उपाय करें

onlinetazakhabar

Leave a Comment